ब्रिटिश सांसद के खिलाफ आवाज हुई तेज, OCI कार्ड व वीजा रद्द करने की मांग

इंटरनेशनल एंटी-खालिस्तानी टेररिस्ट फ्रंट ने कपूरथला के डिप्टी कमिश्नर को पत्र लिखकर कथित तौर पर भारत विरोधी गतिविधियों में भाग लेने के लिए ब्रिटेन के सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी के ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड को रद्द करने की मांग की है।

ब्रिटिश सांसद के खिलाफ आवाज हुई तेज, OCI कार्ड व वीजा रद्द करने की मांग

ब्रिटेन के सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी के खिलाफ भारत में विरोध की आवाज तेज होती जा रही है। इन दिनों ब्रिटिश सांसद भारत के पंजाब प्रांत के दौरे पर हैं। विरोध की इस कड़ी में फगवाड़ा में पिरामिड कॉलेज ऑफ बिजनेस एंड टेक्नोलाजी में होने वाली अंतरराष्ट्रीय सिख यूथ कॉन्फ्रेंस में ब्रिटिश सांसद के शामिल होने को लेकर आपत्ति जताई गई है। यह कार्यक्रम शुक्रवार को होगा। लंदन में आयोजित एक रैली में कथित भारत विरोधी भाषण पर ढेसी को देशद्रोही करार दिया जा रहा है। वहीं, ढेसी ने इन तमाम आरोपों को नकार दिया है।

इंटरनेशनल एंटी-खालिस्तानी टेररिस्ट फ्रंट ने ढेसी के ओसीआई कार्ड को रद्द करने की मांग की। 

इंटरनेशनल एंटी-खालिस्तानी टेररिस्ट फ्रंट ने कपूरथला के डिप्टी कमिश्नर को पत्र लिखकर कथित तौर पर भारत विरोधी गतिविधियों में भाग लेने के लिए ब्रिटेन के सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी के ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड को रद्द करने की मांग की है। फ्रंट ने राज्य सरकार और जिला प्रशासन से समारोह में उनकी भागीदारी को रोकने का आग्रह किया है।

फ्रंट का आरोप है कि ढेसी खालिस्तान समर्थक संगठनों से जुड़े हैं। ओसीआई कार्ड लेकर ढेसी भारत में राजनीतिक गतिविधियों में भाग नहीं ले सकते। यह साफ तौर पर वीजा नियमों का उल्लंघन है। एंटी-खालिस्तानी टेररिस्ट फ्रंट ने यह भी मांग की है कि प्रतिबंधित गतिविधियों में भाग लेने के मामले में ब्रिटिश सांसद का वीजा रद्द कर दिया जाए। बताया गया है कि ढेसी ने एक प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस की तरफ से लंदन में आयोजित खालिस्तान समर्थक रैली में भाग लिया था और भारत के खिलाफ जहर उगला था।

इस बीच शिवसेना की स्थानीय फगवाड़ा इकाई ने भी ढेसी के भारत दौरे और राजनीतिक कार्यक्रम में भाग लेने का विरोध किया है। शिवसेना नेता राजिंद्र बिल्ला और गुरदीप सैनी का कहना है कि तनमनजीत सिंह ढेसी सिख काउंसिल यूके, सिख फेडरेशन यूके और ब्रिटिश सिख काउंसिल जैसे संगठनों से भी जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि यह संस्थाएं पाकिस्तान समर्थक और आइएसआई समर्थित कट्टरपंथियों के नियंत्रण में हैं। ढेसी द्वारा विदेशों में कश्मीर पर भारत की गलत तस्वीर भी पेश की जाती रही है।

वहीं, ब्रिटिश सांसद ने इन तमाम आरोपों से इनकार किया है। किसी भी भारत विरोधी रैली में शामिल होने से इनकार करते हुए ढेसी ने कहा कि मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि मैंने 2020 में लंदन में आयोजित एक रैली में भारत विरोधी भाषण दिया था, जो सही नहीं है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में कुछ लोग ऐसे हैं जो मुझे भारत समर्थक होने के रूप में चित्रित करने की कोशिश करते रहते हैं। वहीं, भारत में कुछ लोग मुझे देशविरोधी साबित करने में जुटे हैं। मुझे लगता है कि भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के बुद्धिमान लोग इस तरह के झूठ और गलत सूचनाओं के झांसे में नहीं आने वाले हैं।