बिहार फाउंडेशन अमेरिका ने 'अपने' इंजीनियरिंग छात्रों को पढ़ाया क्लाउड कंप्यूटिंग का पाठ

बिहार फाउंडेशन यूएसए के अध्यक्ष आलोक कुमार ने कार्यक्रम को लेकर बताया कि आयोजन का उद्देश्य छात्रों को आईटी उद्योग की आवश्यकताओं को समझाने और नौकरी व करियर डिजाइनिंग के अवसरों की चुनौतियों के लिए तैयार करने में मदद करना था।

बिहार फाउंडेशन अमेरिका ने 'अपने' इंजीनियरिंग छात्रों को पढ़ाया क्लाउड कंप्यूटिंग का पाठ

बिहार फाउंडेशन के अमेरिका में ईस्ट कोस्ट चैप्टर ने बिहार स्थित पूर्णिया इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग में करियर मार्गदर्शन पर एक मुफ्त वेबिनार का आयोजन किया। कार्यक्रम कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर नीरज कुमार और प्रोफेसर सौरभ कुमार के मार्गदर्शन में आयोजित किया गया था। बिहार फाउंडेशन के पदाधिकारियों के साथ 2 घंटे तक चलने वाले इस कार्यक्रम में  विभिन्न धाराओं के लगभग 150 छात्रों और शिक्षकों ने हिस्सा लिया।

बिहार फाउंडेशन यूएसए के अध्यक्ष आलोक कुमार ने कार्यक्रम के शुरुआत में अपने भाषण में कहा कि आज के आयोजन का उद्देश्य छात्रों को आईटी उद्योग की आवश्यकताओं को समझाने और नौकरी व करियर डिजाइनिंग के अवसरों की चुनौतियों के लिए तैयार करने में मदद करना है। आलोक कुमार बिहार के दरभंगा जिले के मूल निवासी हैं। हालांकि वह वर्तमान में न्यू जर्सी में रहते हैं और यूएसए में एक सफल टेक कंपनी चलाते हैं।

इस ऑनलाइन सत्र के अध्यक्ष प्रवीण द्विवेदी थे। वह आईटी उद्योग में 15 से अधिक समय से क्लाउड आर्किटेक्ट हैं। उन्होंने क्लाउड कंप्यूटिंग और डोमेन के भीतर उपलब्ध करियर विकल्पों के बारे में बात की। उन्होंने अपने भाषण में विभिन्न प्रमाणपत्रों, प्रोग्रामिंग भाषाओं और उनके लाभों के बारे में बताया। उन्होंने क्लाउड लर्निंग की योजना और क्रियान्वयन के बारे में बात कर छात्रों को रोड मैप समझाने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि यदि कोई छात्र प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहता है तो उसे व्यावहारिक प्रदर्शन और उसके महत्व पर ध्यान देना चाहिए।

इसके अलावा उन्होंने उन उद्योगों के बारे में बात की, जो क्लाउड से जुड़े उत्पादों और सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं। उन्होंने यह कहते हुए सत्र का समापन किया कि जहां तक ​​भविष्य का संबंध है क्लाउड प्रौद्योगिकी का भविष्य उज्जवल है और छात्रों को अग्रणी प्रौद्योगिकियों के साथ खुद को इस क्षेत्र में कुशल बनाना चाहिए। बता दें कि कंप्यूटर विज्ञान में मास्टर डिग्री लिए हुए प्रवीण द्विवेदी जेपी मॉर्गन चेस यूएसए में क्लाउड आर्किटेक्ट के वाइस प्रेसिडेंट के रूप में कार्य करते हैं। उनकी गुणवत्ता शिक्षा से संबंधित परोपकारी कार्यों में गहरी रुचि है और वह भारत और अमेरिका में कई शिक्षा-संबंधित संस्थानों से जुड़े हुए हैं। द्विवेदी बिहार के हाजीपुर के रहने वाले हैं और वर्तमान में अपनी पत्नी और दो बेटों के साथ फिलाडेल्फिया में रहते हैं।

कार्यक्रम में बिहार फाउंडेशन यूएसए के सचिव चंदन त्रिवेदी ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अध्यक्ष, छात्रों और ​शिक्षकों सदस्यों का आभार व्यक्त किया। त्रिवेदी ने कहा कि बिहार फाउंडेशन यूएसए के पास विभिन्न क्षेत्रों और उद्योगों में पेशेवरों और विशेषज्ञों का एक व्यापक नेटवर्क है। फाउंडेशन इस तरह के आयोजन करता रहेगा क्योंकि हम बिहार के लोगों विशेषकर युवा पीढ़ी को अपने अनुभव और ज्ञान से मदद करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।