क्लर्क थे, मेहनत की... कोलंबिया की सुपिरियर कोर्ट के जज बन गए राजेश ऑर्थर

राजेश ऑर्थर ने ये मुकाम यूं ही हासिल नहीं किया। इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की। यही वजह से है कि कभी इसी कोर्ट में जज के यहां क्लर्क की नौकरी वाले राजेश आज उसी अदालत में असोसिएट जज बनने के गौरव को हासिल किया।

क्लर्क थे, मेहनत की... कोलंबिया की सुपिरियर कोर्ट के जज बन गए राजेश ऑर्थर

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने भारतीय मूल के राजेश ऑर्थर को डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया के सुपिरियर कोर्ट का असोसिएट जज बनाया है। उनका कार्यकाल 15 साल के लिए होगा। राजेश इसी कोर्ट में वर्ष 2010 से बतौर मजिस्ट्रेट जज के रूप में काम कर रहे थे। व्हाइट हाउस ने उनके नॉमिनेशन की पुष्टि कर दी है। वैसे जज राजेश ऑर्थर के लिए इस मुकाम को हासिल करना इतना आसान भी नहीं रहा। अपनी लगन और मेहनत के अलावा कानून के हर पहलू पर अपनी तीक्ष्ण प्रतिभा के बल पर ही उन्हें यह मौका मिला है।

व्हाइट हाउस की जानकारी के अनुसार बतौर मैजिस्ट्रेट जज राजेश जुडिशल लीडरशीप टीम के चीफ के तौर पर काम कर रहे थे। राजेश कोर्ट में क्रिमिनल डिविजन, डोमिस्टिक वॉयलेंस डिविजन और फैमिली कोर्ट में भी काम कर चुके हैं। वर्ष 2002 से लेकर 2010 तक उन्होंने खुद अपनी प्रैक्टिस की। इससे पहले 1999 से लेकर 2002 तक उन्होंने डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया में पब्लिक डिफेंस सर्विस के लिए बतौर स्टाफ काम किया। इससे पहले एक साल तक वह डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया के सुपिरियर कोर्ट में जज मैरी ए गुडेन के लिए क्लर्क का भी काम किया।