छोटी उम्र में ही भारत के 73वें शतरंज ग्रैंडमास्टर बन गए भरत सुब्रमण्यम

भरत ने फरवरी 2020 में मॉस्को में एअरोनफ्लोट ओपन में 11वां स्थान हासिल करने के बाद अपना पहला जीएम मानदंड हासिल किया था। अक्तूबर 2021 में वह 6.5 अंकों के साथ बुल्गारिया में जूनियर राउंडटेबल अंडर 21 टूर्नामेंट में चौथे स्थान पर रहे थे और दूसरा मानदंड प्राप्त किया था।

छोटी उम्र में ही भारत के 73वें शतरंज ग्रैंडमास्टर बन गए भरत सुब्रमण्यम

भारत के शतरंज खिलाड़ी भरत सुब्रमण्यम रविवार को इटली में अपने तीसरे और अंतिम ग्रैंडमास्टर (जीएम) मानदंड हासिल करने के बाद भारत के 73वें शतरंज ग्रैंडमास्टर बन गए। उन्होंने यह सफलता वेरगानी कप ओपन (Vergani Cup Open) में हासिल की। चेन्नई के इस 14 वर्षीय खिलाड़ी ने कैटोलिका में आयोजित इस प्रतियोगिता के नौ राउंड में 6.5 हासिल किए और चार अन्य खिलाड़ियों के साथ सातवां स्थान प्राप्त किया।

भरत सुब्रमण्यम ने इस प्रतियोगिता के दौरान अपना तीसरा ग्रैंडमास्टर मानदंड प्राप्त किया और अपेक्षित 2500 ईएलओ (Elo) अंक भी हासिल किए। उल्लेखनीय है कि ग्रैंडमास्टर की उपाधि पाने के लिए एक खिलाड़ी को तीन ग्रैंडमास्टर मानदंड हासिल करने होते हैं और 2500 ईएलओ अंकों की लाइव रेटिंग पार करनी होती है। अखिल भारतीय शतरंज संघ (AICF) ने यह उपलब्धि प्राप्त करने पर भरत सुब्रमण्यम को बधाई दी है।