भारतीय ऑस्ट्रेलियाई पायलट कैप्टन भामारिया को इसलिए मिला यह सम्मान

ऑस्ट्रेलियाई समुद्री सुरक्षा प्राधिकरण (AMSA) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मिक किनले ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के समुद्री पायलटों में से एक को इस स्तर की बहादुरी के लिए अंतर्राष्ट्रीय मान्यता मिलना एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

भारतीय ऑस्ट्रेलियाई पायलट कैप्टन भामारिया को इसलिए मिला यह सम्मान

भारतीय ऑस्ट्रेलियाई पायलट कैप्टन रितेश भामारिया को उनके कार्यों के लिए अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन (आईएमओ) की ओर से समुद्र में असाधारण वीरता पुरस्कार के तौर पर एक प्रतिष्ठित प्रमाणपत्र से नवाजा गया है। समुद्र में असाधारण वीरता पुरस्कार उन लोगों को अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्रदान करता है, जो अपनी जान की परवाह किए बगैर असाधारण बहादुरी दिखाते हैं और उत्कृष्ट साहस का प्रदर्शन करते हैं।

दिसंबर 2020 में पायलट कैप्टन रितेश भामारिया खराब मौसम की स्थिति में टोरेस स्ट्रेट में तेल टैंकर एमटी गोडम का कुशल संचालन कर रहे थे, जब उन्होंने विकराल रूप धारण किए हुए समुद्र में मदद के लिए किसी को हाथ हिलाते हुए देखा।

यह हाथ स्थानीय मछुआरे एक चाचा और भतीजे का था जो अपनी नाव के डूबने के करीब 17 घंटे बाद तक तैरते हुए मलबे को पकड़े हुए थे। उनके पास खुद को बचाने का कोई उपकरण मौजूद नहीं था। कैप्टन भामारिया को यह देखकर आश्चर्य हुआ लेकिन उन्होंने बिना समय बर्बाद किए उन्हें बचाने का प्रयास शुरू कर दिया। इस दौरान जहाज का चालक दल भी कैप्टन के साथ मौजूद था।