Skip to content

शोधकर्ताओं का दावा, ट्रंप के फैसले से मुस्लिम अमेरिकियों के स्वास्थ्य पर असर पड़ा

शोधकर्ताओं ने 2016 और साल 2017 में मिनियापोलिस-सेंट पॉल हेल्थपार्टनर्स प्राइमरी केयर क्लीनिक और आपातकालीन विभागों में उपचार कराने गए 2,50,000 से अधिक लोगों की जांच की।

Photo by Darren Halstead / Unsplash

येल​ विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने चौंका देने वाली रिपोर्ट तैयार की है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक फैसले से अमेरिका में रहने वाले मुसलमानों को स्वास्थ्य संबं​धी समस्याओं का सामना करना पड़ा था। जी हां, साल 2017 में ट्रंप ने कुछ चुनिंदा मुस्लिम देशों के शरणार्थियों को अमेरिका में आने-जाने को लेकर कड़े प्रतिबंध लगा दिए थे, जिस कारण अमेरिका में रहने वाले मुसलमानों ने भी अपने रेगुलर चैकअप तक करवाने बंद कर दिए थे। इस शोध में भारतीय मूल की शोधकर्ता सहायक प्रोफेसर पूजा अग्रवाल भी शामिल थी।  

President Donald Trump and VP Mike Pence
जैमा नेटवर्क ओपन जर्नल में प्रकाशित इस शोध में यह भी बताया गया कि आपातकालीन विभाग में अमेरिकी मुसलमानों का प्रवेश बढ़ गया था। Photo by History in HD / Unsplash

शोधकर्ताओं के अनुसार अमेरिका के मिनियापोलिस-सेंट पॉल में मुस्लिम समुदाय के लोगों की बड़ी संख्या है, जिन्होंने पूर्व राष्ट्रपति के इस फैसले के बाद से अपनी प्राथमिक देखभाल के लिए कराए अपाइंटमेंट पर जाना बंद कर दिया था। जैमा नेटवर्क ओपन जर्नल में प्रकाशित की गई इस शोध में यह भी पाया गया कि आपातकालीन विभाग में अमेरिकी मुसलमानों का प्रवेश बढ़ गया था। यह अपनी तरह की पहली ऐसी शोध है, जिसमें यह पता चलता है कि सरकार की एक पॉलिसी में बदलाव होने से कितना असर अमेरिका में रहने वाले मुसलमानों पर हुआ है।

This post is for paying subscribers only

Subscribe

Already have an account? Log in

Latest