भारतीय अमेरिकियों के लिए कुछ भी असंभव नहीं: तरुण बासु

40 से भी अधिक सालों से मीडिया के दिग्गज रहे तरुण बासु इन दिनों अपनी नई किताब को लेकर चर्चा में हैं। बासु ने 'कमला हैरिस एंड द राइज़ ऑफ़ इंडियन अमेरिकन्स' नामक किताब लिखी है, जिनमें भारतीय-अमेरिकियों के उदय पर विस्तार से चर्चा की गई है।

भारतीय अमेरिकियों के लिए कुछ भी असंभव नहीं: तरुण बासु

अनुभवी संपादक और विदेश नीति विश्लेषक तरुण बासु कहते हैं, “100,000 भारतीय अमेरिकी डॉक्टर, 20,000 से अधिक भारतीय अमेरिकी होटल व्यवसायी और तीन में से एक टेक कंपनी के फाउंडर आज अमेरिका में भारतीय हैं। इससे ये साबित होता है कि भारतीयों के लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

'कमला हैरिस एंड द राइज़ ऑफ़ इंडियन अमेरिकन्स' बुक के माध्यम से भारतीयों के अमेरिका में बढ़ते ग्राफ पर चर्चा की गई है। इस पुस्तक में कई महत्वपूर्ण लेखकों के लेख संग्रहीत हैं जिनमें शीर्ष राजनायिक टीपी श्रीनिवासन और अरुण के सिंह के अलावा यूएन में पब्लिक सर्वेंट रहे भारत के नेता शशि थरूर भी शामिल हैं।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के संस्थापक-संपादक रहे बासु ने भारतीयों की अमेरिका में उपलब्धियों को लेकर इंडियन स्टार हिंदी से कहा कि भारतीय कम्यूनिटी की सफलता दुनिया के बाकी देशों के लिए एक मॉडल का काम करती है। उन्होंने कहा, “एक समुदाय जिसने कड़ी मेहनत, जोखिम लेने, समावेशी दृष्टिकोण और जुनून के साथ अपनी संस्कृति बनाए रखते हुए अपनी पहचान बनाई है। आज यह कम्युनिटी दुनिया के बाकी देशों के लिए मॉडल कम्यूनिटी का काम कर रही है, जिसका बड़ी दिलचस्पी के साथ कई देशों की सरकारें अध्ययन कर रही हैं।

लंबे वक्त से विदेश नीतियों के विश्लेषक रहे बासु ने भारत के आठ प्रधानमंत्रियों के साथ दुनिया भर में यात्रा करते हुए इंटरनेशनल रिलेशनशिप को समझा है। उन्होंने उत्साह के साथ विदेशों में रहने वाले भारतीयों की उपलब्धियों में गहरी रुचि रखी है और इस समुदाय के साथ गहरे संबंध भी बनाए हैं। उनका कहना है कि उनके द्वारा संपादित इस किताब का प्रमुख उद्देश्य संयुक्त राज्य अमेरिका में रह रहे 40 लाख भारतीयों की गाथा को दुनिया के सामने लाना है।