भारत को मिली स्विस बैंक खातों की जानकारी, प्रवासियों के नाम भी शामिल!

विशेषज्ञों के अनुसार भारत द्वारा प्राप्त एईओआई डाटा (सूचना के स्वत: आदान-प्रदान) उन लोगों के खिलाफ एक मजबूत अभियोजन मामला बनाने में काफी मददगार रहा है जिनके पास बेहिसाब संपत्ति है।

भारत को मिली स्विस बैंक खातों की जानकारी, प्रवासियों के नाम भी शामिल!

भारत को स्विट्जरलैंड से स्विस बैंक खातों के विवरण की तीसरी सूची मिल गई है। स्विट्जरलैंड ने 96 देशों के साथ लगभग 33 लाख वित्तीय खातों का विवरण साझा किया है। भारत से संबंधित जिन खातों की जानकारी दी गई है उनमें ज्यादातर खाते कारोबारियों से संबंधित हैं। इनमें वे भारतीय प्रवासी भी शामिल हैं जो अब कई दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के साथ-साथ अमेरिका, ब्रिटेन और यहां तक कि कुछ अफ्रीकी और दक्षिण अमेरिकी देशों में भी बस गए हैं।

Mahatma Gandhi(Father of the Nation)
सिर्फ भारत की बात करें तो भारत को स्विट्जरलैंड से लगातार तीसरे साल से सूचना मिल रही है। Photo by Ishant Mishra / Unsplash

स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन (एफटीए) ने कहा कि इस साल सूचनाओं के आदान-प्रदान में 10 और देशों को शामिल किया है जिसमें एंटीगुआ और बारबुडा, अजरबैजान, डोमिनिका, घाना, लेबनान, मकाऊ, पाकिस्तान, कतर, समोआ और वुआतू हैं। वहीं स्विटजरलैंड ने 26 देशों को इस साल कोई जानकारी नहीं दी है। इसके पीछे वजह यह बताई जा रही है कि यह वो देश हैं जिन्होंने अभी तक गोपनीयता और डाटा सुरक्षा पर अंतरराष्ट्रीय मानदंडो को पूरा नहीं किया या फिर डाटा हासिल करना जरूरी नहीं समझा।