प्राचीन व बहुमूल्य मूर्तियां चुराई और विदेश में बेच दी, अब वापस भारत आ रही हैं

इनमें से 13 कलाकृतियों को 2002 और 2010 के बीच 'आर्ट ऑफ़ द पास्ट' गैलरी से खरीदा गया था। न्यूयॉर्क की इस कुख्यात गैलरी का मालिक प्राचीन वस्तुओं का संदिग्ध तस्कर सुभाष कपूर है।

प्राचीन व बहुमूल्य मूर्तियां चुराई और विदेश में बेच दी, अब वापस भारत आ रही हैं
भारत से चोरी व अन्य तरीकों से इन बहुमूल्य मूर्तियों को विदेश में भेज दिया गया था। 

नेशनल गैलरी ऑफ ऑस्ट्रेलिया (NGA) ने कहा है कि वह अपने एशियाई कला संग्रह से सांस्कृतिक रूप से महत्वपूर्ण 14 कलाकृतियां भारत सरकार को लौटाएगी। इसमें कांस्य और पत्थर की मूर्तियां, एक चित्रित स्क्रॉल और तस्वीरें शामिल हैं। ये मूर्तियां चोरी करके या गलत तरीके से विदेश ले जाकर बेच दी गई थीं।

एनजीए ने अब भारत सरकार को वह कलाकृतियां (Antiquities) दी हैं, जो उसने मैनहट्टन के पूर्व आर्ट डीलर सुभाष कपूर से खरीदी थीं। ये सभी ऑपरेशन हिडन आइडल के नाम से फेमस एक अमेरिकी संघीय जांच का विषय थीं। उल्लेखनीय है कि अमेरिकी सरकार ने भी 2011 में कपूर की गिरफ्तारी के बाद सैकड़ों चीजें भारत को लौटा दी थीं।