विशेष लेख: भारत ढुलमुल नहीं है राष्ट्रपति बाइडेन जी... यह समझदारी है उसकी

नई दिल्ली के पास देखने के लिए अन्य चीजें हैं, विशेष रूप से चीन जैसे परेशान करने वाला पड़ोसी और बीजिंग पर लगाम के लिए वाशिंगटन और मॉस्को की तरफ देखना। अंतरराष्ट्रीय राजनीति के इस खेल में किसी पक्ष को छोड़ा नहीं जा सकता और दोनों ही परिदृश्य भारत के हित में नहीं हैं।

विशेष लेख: भारत ढुलमुल नहीं है राष्ट्रपति बाइडेन जी... यह समझदारी है उसकी

यूक्रेन पर अपने भारी आक्रमण के एक महीने बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पाया कि जमीन पर उनकी सेना को जैसा गतिरोध झेलना पड़ रहा है, उसकी कल्पना उन्होंने सपनों में भी नहीं की थी। पुतिन और उनके सैन्य सलाहकारों की करीबी समिति ने शायद सोचा था कि वलोडिमिर ज़ेलेंस्की देश से भाग जाएगा, जैसा कि दुनिया भर में कई तानाशाहों और अत्याचारियों ने अतीत में किया है। ज़ेलेंस्की न केवल दैनिक आधार पर पुतिन को ताना दे रहे हैं,  बल्कि यह भी है कि यूक्रेनी सेना और नागरिक हमलावर बलों का कड़ाई से मुकाबला कर रहे हैं।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की राजधानी कीव में राष्ट्र को संबोधित करते हुए। (वीडियो से छवि, यूक्रेनी राष्ट्रपति प्रेस कार्यालय)

दुनिया की राजधानियों के चारों ओर उड़ने वाली तमाम बयानबाजी के बीच, संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जोसेफ बाइडेन चूकना नहीं चाहते हैं और मॉस्को को सबक सिखाने के लिए भारत जैसे देशों पर पश्चिमी गुट में शामिल होने का दबाव बना रहे हैं। व्यापार जगत के नेताओं के एक समूह को संबोधित करते हुए बाइडेन ने दुनिया भर से वाशिंगटन को मिल रहे समर्थन की प्रशंसा की और संयुक्त राज्य अमेरिका के चारों ओर पसरे एक नई विश्व व्यवस्था के भव्य भ्रम को संभालते हुए पुतिन की आक्रामकता के जवाब में भारत को 'ढुलमुल' कहा है। बाइडेन के मन में स्पष्ट रूप से नई दिल्ली के संयुक्त राष्ट्र में तीन बार रूस के खिलाफ मतदान से परहेज करना रहा, जबकि यूक्रेन के खिलाफ आक्रामकता की निंदा भी की गई थी।