बेरोजगारी और वेतन में कटौती से जूझ रहे प्रवासी भारतीय, वैवाहिक जीवन तक खतरे में

संयुक्त अरब अमीरात में रहने वाले प्रवासी भारतीय नौकरी चले जाने, वेतन में कटौती और उड़ानें बंद होने से मानसिक दबाव में है।

बेरोजगारी और वेतन में कटौती से जूझ रहे प्रवासी भारतीय, वैवाहिक जीवन तक खतरे में
ये ठीक है कोई मरता नहीं है जुदाई में, खुदा किसी को किसी से मगर जुदा न करे। Photo by Luis Galvez / Unsplash

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अभी हाल में ही कहा था कि कोरोना वायरस के प्रसार को लेकर चिंता, लॉकडाउन के मनोवैज्ञानिक प्रभाव और एक किस्म के अलगाव के साथ-साथ बेरोजगारी, वित्तीय चिंताओं की वजह से लोगों में मानसिक तनाव बढ़ रहा है। संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में रहने वाले प्रवासी भारतीय भी कोरोना काल में नौकरी चले जाने एवं वेतन कटौती से खासे परेशान हैं। उनका वैवाहिक जीवन तक खतरे में पड़ रहा है। लगातार परेशानियों के चलते उन्हें अपने परिजनों को वापस स्वदेश भेजना पड़ा है। इसके बावजूद उनकी परेशानियों का हल नहीं निकला है।

माधवन (बदला हुआ नाम) इन दिनों अपने लिए काम की तलाश में जुटे हैं। इस वक्त उनकी पत्नी ही कमाने वाली है। आर्थिक दिक्कतों के चलते उन्होंने अपने दोनों बच्चों को उनके दादा-दादी के पास भारत भेज दिया है।

Follow me at the Castle Of San Giovanni
कोरोना से उपजी बेरोजगारी के चलते प्रेम विवाह करने वाले तक आपस में लड़ने लगे हैं। Photo by Christopher Alvarenga / Unsplash

माधवन ने कहा, " इन दिनों मैं बेरोजगार हूं और मेरी शादी खतरे में है। चीजें इतनी खराब हो गई थीं कि वह अक्सर अपनी पत्नी से झगड़ते थे, जबकि उन्होंने प्रेम विवाह किया था। उन्हें कई बिल चुकाने हैं जबकि कमाने वाली केवल पत्नी है।"

46 वर्षीय माधवन ने कहा कि इन्हीं दिक्कतों के चलते उन्होंने सात और पांच साल के दो बच्चों को अपने माता-पिता के साथ रहने के लिए घर वापस भेज दिया है। उन्होंने कहा कि हम बच्चों की ट्यूशन का खर्चा नहीं उठा सकते, इसलिए हमने फरवरी में उन्हें घर वापस भेज दिया। वे अब अपने दादा-दादी के साथ रहते हैं और वहां स्कूल जाते हैं।

उन्होंने कहा, “महामारी के कारण, पहले मुझे वेतन कटौती का सामना करना पड़ा। फिर मुझे अपनी नौकरी छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। यह नौकरी पिछले साल अक्टूबर में ही लगी थी और मई में इस्तीफा देना पड़ गया।" उन्होंने कहा कि किराया, ट्यूशन, क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान से लेकर पर्सनल लोन एवं अन्य खर्चों को लेकर वह काफी परेशान हैं। इन सबके कारण, परिवार का प्रबंधन एक तनावपूर्ण दौर रहा है।

Scrabble tiles and smartphone. 
More awesome freebies here: https://firmbee.com/freebiesun
प्रवासी दंपतियों के बच्चों पर पढ़ाई को लेकर खतरा मंडरा रहा है। जिस कारण वे अपने बच्चों को भारत भेज रहे हैं। Photo by Firmbee.com / Unsplash