कनाडा ने समझा परिवार का महत्व, आशीर्वाद देने के लिए मिलन होगा अपनों का

कनाडा के इमिग्रेशन, रिफ्यूजी और सि​टीजनशिप मिनिस्टर मार्को ई.एल. मेंडिसिनो ने कहा, "महामारी के दौरान परिवार का महत्व साफ दिखाई दिया था। इसलिए हम कनाडा में और अधिक परिवारों को फिर से मिलाने में मदद करने की कोशिश कर रहे हैं।"

कनाडा ने समझा परिवार का महत्व, आशीर्वाद देने के लिए मिलन होगा अपनों का
अपनों से मिलन के लिए सरकार ने नियमों की ढील दी। Photo by Tyler Nix / Unsplash

कोरोना महामारी ने परिवार के महत्व को समझा दिया। यही वजह है कि कनाडा प्रशासन ने इस बार अप्रवासी लोगों के लिए बड़ा फैसला करते हुए अपने पैरेंट्स एंड ग्रांडपैरेंट्स प्रोग्राम यानी पीजीपी के तहत इस साल 40,000 आवेदन लेने का फैसला किया है। पीजीपी प्रोग्राम के तहत साल 2020 में 10,000 आवेदन मंजूर किए गए थे, जबकि इस बार प्रशासन ने 30,000 अतिरिक्त आवेदन लेने को कहा है।

कनाडा सरकार के इस फैसले से उन लोगों को बड़ी राहत मिली है, जो अपने मां बाप या अन्य परिजनों को अपने पास बुलाना चाहते हैं। 30,000 अतिरिक्त आवेदन होने से कनाडा में काफी लोगों को अपने मां बाप या दादा दादी को अपने पास बुलाने की एक आस दिखाई दे रही है।  इतनी बड़ी संख्या में आवेदन लेने का यह पहला मामला है।

आम तौर पर साल में 10,000 आवेदन ही लिए जाते थे, जबकि इस बार आवेदन करने की संख्या 30,000 अधिक यानी 40,000 की गई। Photo by Hermes Rivera / Unsplash