प्रियंवदा सहाय

प्रियंवदा सहाय

Priyamvada Sahay is a freelance journalist and Blogger based at Stockholm, Sweden. She has over a decade long experience in the field of journalism. She likes Photography, Storytelling and traveling.

स्वीडन के भारतीय रिसर्चर नियोगी ने कहा, 'जागरुकता से ही रुकेगी महामारियां'
समाचार

स्वीडन के भारतीय रिसर्चर नियोगी ने कहा, 'जागरुकता से ही रुकेगी महामारियां'

नियोगी करोलिंस्का इंस्टिट्यूट के एसोसिएट प्रोफेसर हैं। यह संस्थान दुनिया के सर्वोच्च रैंक वाले चिकित्सा विश्वविद्यालयों में से एक है। यहां करीब 50 से ज्यादा भारतीय शोधकर्ता अपना योगदान दे रहे हैं।

स्वीडिश ब्रांड IKEA ने मिलाया हाथ, दुनियाभर में दिखेगा भारत का हस्तशिल्प
समाचार

स्वीडिश ब्रांड IKEA ने मिलाया हाथ, दुनियाभर में दिखेगा भारत का हस्तशिल्प

आईकेईए और स्थानीय भारतीय कारीगरों के बीच सहयोग से ग्रामीण महिला सशक्तिकरण में लाभ होगा। महिलाओं को कमाने का अवसर मिलेगा।

इस देश ने दीपक खन्ना को 'सर्वोच्च नागरिक सम्मान' से किया सम्मानित
समाचार

इस देश ने दीपक खन्ना को 'सर्वोच्च नागरिक सम्मान' से किया सम्मानित

दीपक खन्ना वर्तमान में 'डिजिसेल वानआतू लिमिटेड' के सीईओ हैं और अब समोआ में रहते हैं। उनकी कंपनी एक मोबाइल ऑपरेटर कंपनी है, जिसका नेटवर्क प्रशांत महासागर के द्वीर राष्ट्र और कैरेबियाई देशों में फैला हुआ है।

आप मालदार हैं, क्यों नहीं लेते गोल्डन वीजा, लीजिए और शानदार जीवन बिताइए
समाचार

आप मालदार हैं, क्यों नहीं लेते गोल्डन वीजा, लीजिए और शानदार जीवन बिताइए

आयरलैंड में रेजीडेंसी निवेश कार्यक्रम इसके लिए सबसे बढ़िया विकल्प है। आयरलैंड यूरोपीय संघ का हिस्सा है, जहां अंग्रेजी बोली जाती है और तमाम विश्व स्तरीय विश्वविद्यालय हैं।

प्रवासी भारतीयों को स्वीडन इसलिए पसंद है क्योंकि...
विचार

प्रवासी भारतीयों को स्वीडन इसलिए पसंद है क्योंकि...

फ़्लेक्सिबल वर्किंग आवर और प्रत्येक बच्चे के लिए 480 दिनों के सवैतनिक अवकाश (पैरेंटल लीव) समेत तमाम ऐसी योजनाएं यहां प्रभावी हैं जो स्वीडन को प्रवासी भारतीयों के बीच लोकप्रिय बनाती है।

स्वीडन में नया माइग्रेशन कानून लागू, प्रभावित हो सकती है आपके पीआर लेने की योजना
समाचार

स्वीडन में नया माइग्रेशन कानून लागू, प्रभावित हो सकती है आपके पीआर लेने की योजना

स्वीडिश सरकार ने अपने पुराने माइग्रेशन कानून में बदलाव कर नया कानून लागू किया है। नया कानून 20 जुलाई से प्रभावी हो चुका है।

गांधी के दर्शन को समझेंगे यूरोपीय प्रवासी, शुरू होगा स्पेशल ऑनलाइन कोर्स
समाचार

गांधी के दर्शन को समझेंगे यूरोपीय प्रवासी, शुरू होगा स्पेशल ऑनलाइन कोर्स

इस कोर्स के माध्यम से प्रवासी भारतीय महात्मा गांधी के जीवन के उन पहलुओं को जानेंगे, जो वर्तमान समय में प्रासंगिक हैं।

जब यूरोप ने कहा ‘होली है‘
समाचार

जब यूरोप ने कहा ‘होली है‘

भारत में होली बेशक साल में एक बार मनाई जाती है। लेकिन आप अगर यूरोप में रहते हैं तो आपको साल में एक से ज़्यादा बार होली मनाने का मौक़ा मिल सकता है। इसके लिये फाल्गुन मास का होना ज़रूरी नहीं है।

भारत और स्विट्ज़रलैंड का बॉलीवुड कनेक्शन
विचार

भारत और स्विट्ज़रलैंड का बॉलीवुड कनेक्शन

स्विट्ज़रलैंड से बॉलीवुड के गहरे रिश्ते को देखते हुए पिछले कुछ सालों से कई टूर ऑपरेटरों ने बॉलीवुड गाइडेड टूर कराना शुरू कर दिया है। यानी जिन जगहों पर फ़िल्मों की शूटिंग हुई है, गाइड उन सभी जगहों से पर्यटकों को रूबरू कराते हैं।

जर्मन यूनिवर्सिटीज में आख़िर क्यों बढ़ रहा भारतीय छात्रों का रुझान
समाचार

जर्मन यूनिवर्सिटीज में आख़िर क्यों बढ़ रहा भारतीय छात्रों का रुझान

हाल के दिनों में क़रीब 70% भारतीय छात्रों ने जर्मन यूनिवर्सिटीज की ओर रुख किया है। Federal Statistical Office of Germany के मुताबिक़ शीत सत्र (2019-20) के दौरान जर्मनी में भारतीय छात्रों की संख्या पिछले साल के मुक़ाबले 20.85% अधिक रही। जो कि संख्या में क़रीब 25,149 आंकी गई।

जब यूरोपीय देशों के मातृभाषा प्रेम और सिविक सेंस से प्रभावित हुए थे उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू
विचार

जब यूरोपीय देशों के मातृभाषा प्रेम और सिविक सेंस से प्रभावित हुए थे उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू

बच्चों को अंग्रेज़ी समेत तमाम भाषाओं का ज्ञान देना चाहिए।लेकिन हमें अपनी मातृभाषा को प्राथमिकता देना ज़रूरी है। यह किसी धरोहर से कम नहीं। दुनिया भर में हिंदी क़रीब 370 मिलियन लोगों की पहली भाषा और 120 मिलियन लोगों के बोलचाल में दूसरे स्थान पर है।

भारतीय वैक्सीन कोविशील्ड को 11 यूरोपीय देशों में मिली अनुमति
समाचार

भारतीय वैक्सीन कोविशील्ड को 11 यूरोपीय देशों में मिली अनुमति

स्विट्ज़रलैंड में रहने वाले भारतीयों की संख्या क़रीब 18000 है। इसमें भारतीय मूल के क़रीब 6300 स्वीश पासपोर्ट धारक शामिल हैं। इनमें ज़्यादातर आईटी कंपनी, रेस्तराँ व्यवसाय व तमाम अंतरराष्ट्रीय व्यवसाय से जुड़े हुए हैं।