ऑस्ट्रेलिया के मंत्री तेलंगाना दिवस पर जब हिंदी में बोले तो तालियों से गूंज उठा हॉल

कार्यक्रम के दौरान ऑस्ट्रेलिया सरकार में मंत्री जेफ्री ली ने हिंदी में अपना परिचय दिया। उनके नमस्कार करने पर दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ स्वागत किया। ली ने कहा कि यह पहला बड़ा तेलुगु कार्यक्रम है जिसमें उन्होंने महामारी के बाद भाग लिया था। कार्यक्रम में लगभग 1200 दर्शक मौजूद थे।

ऑस्ट्रेलिया के मंत्री तेलंगाना दिवस पर जब हिंदी में बोले तो तालियों से गूंज उठा हॉल

ऑस्ट्रेलिया के ब्लैकटाउन, एनएसडब्ल्यू स्थित बोमन हॉल में वाकई बहुसांस्कृतिक जमावड़े की रात थी। इस अवसर पर यह हॉल जय तेलंगाना के नारों से गूंज गया। सांस्कृतिक गतिविधियों की शुरुआत छोटे बच्चों के लोकप्रिय गीतों के साथ हुई, जिसमें उपस्थित लोगों ने इन बाल कलाकारों का उत्साहवर्धन किया। कार्यक्रम के दौरान ऑस्ट्रेलिया सरकार में मंत्री जेफ्री ली ने हिंदी में अपना परिचय दिया। उनके नमस्कार करने पर दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ स्वागत किया। ली ने कहा कि यह पहला बड़ा तेलुगु कार्यक्रम है, जिसमें उन्होंने महामारी के बाद भाग लिया। कार्यक्रम में लगभग 1200 दर्शक मौजूद थे।

पिछले दिनों आयोजित इस कार्यक्रम में ऑस्ट्रेलिया सरकार में मंत्री डॉ. जेफ्री ली के अलावा युवा मामलों के मंत्री जूलिया डोरोथी, सांसद, सिडनी में भारतीय राजदूत संजय कुमार मुलुका सहित कई महत्वपूर्ण लोगों ने कार्यक्रम में हिस्सेदारी की। एटीएफ के अध्यक्ष प्रशांत कुमार कोंडपार्थी ने इस अवसर पर कहा, मैं रोमांचित और बहुत खुश हूं, क्योंकि 2006 में एटीएफ की स्थापना तेलंगाना समुदाय को जोड़ने के साथ संस्कृति और व्यापार को बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ की गई थी।

उन्होंने कहा कि हालांकि हम तेलंगाना (भारत) से मीलों दूर रहते हैं, लेकिन यहां हमारी आत्मा और दिल अगली पीढ़ियों तक संस्कृति और परंपरा के जुड़ाव को देखना चाहती है। उन्होंने लोगों से एटीएफ की कार्यक्रमों से जुड़ने का आग्रह किया। उन्होंने एटीएफ-ईसी टीम का परिचय देते हुए कहा कि यह आयोजन इनके बिना सफल नहीं होता। ब्लैकटाउन काउंसिल के मेयर टोनी ब्लैसडेल इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके। लेकिन उन्होंने एटीएफ टीम को अपनी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दीं।

युवा मामलों के मंत्री जूलिया ने उल्लेख किया कि ढाई साल बाद आप सभी को एक ही स्थान पर बहुसांस्कृतिक उत्सव मनाते हुए देखना अच्छा लगा। उन्होंने तेलंगाना दिवस के गठन का जश्न मनाने और तेलंगाना संस्कृति और परंपरा में विविधता की सराहना की। जोडी मैके ने याद किया कि उन्होंने तेलंगाना का दौरा किया है। उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में उसी भावना को देखकर अच्छा लगा।

सिडनी में भारतीय राजदूत और तेलंगाना के रहने वाले संजय मुलुका ने उल्लेख किया कि यह आयोजन एक मेला जैसा दिखता है, जो तेलंगाना की सच्ची बहु&संस्कृतिवाद की भावना को प्रदर्शित करता है। उन्होंने इस त्योहार की मेजबानी के लिए एटीएफ टीम को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि खासकर जब भारत आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, ऐसे में एटीएफ को भारतीय कार्यक्रम पेश करते हुए देखना अच्छा लगा।

कार्यक्रम में कैमडेन की स्थानीय काउंसिलर उषा डोम्माराजू, हॉर्नस्बी की श्रीनी पिल्लामारी, स्ट्रैथफील्ड की संध्या रेड्डी, कंबरलैंड की सुमन साहा और ब्लैकटाउन की मनिंदर सिंह सुसाई, बेंजामिन और लिविंगस्टन चेट्टूपल्ली और अन्य ने भी शिरकत की।