Apple ने अपने ट्रेड ​सीक्रेट्स चुराने का पूर्व भारतीय कर्मचारी पर लगाया आरोप

मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि अगस्त 2021 में जाने से पहले भारतीय मूल के भासी कैथामाना ने 'APPLE_WORK_DOCS' नाम से एक बाहरी USB ड्राइव पर स्प्रेडशीट, प्रस्तुतीकरण और टेक्स्ट फाइलों की एक सीरीज की कॉपी बनाई।

Apple ने अपने ट्रेड ​सीक्रेट्स चुराने का पूर्व भारतीय कर्मचारी पर लगाया आरोप
Photo by Sumudu Mohottige / Unsplash

टेक्नोलॉजी क्षेत्र की अग्रणी कंपनी एप्पल ने अपने कंप्यूटर चिप से जुड़े ट्रेड सिक्रेट्स चुराने के लिए रिवोस आईएनसी नाम के एक स्टार्टअप से जुड़े मुकदमे में एक भारतीय अमेरिकी सहित दो पूर्व कर्मचारियों का नाम लिया है। कंपनी ने कैलिफोर्निया के सैन जोस में एक संघीय अदालत में 6 मई को दायर मुकदमे में अपने ही दो पूर्व इंजीनियरों भारतीय मूल के भासी कैथामाना और अन्य अमेरिकी रिकी वेन की पहचान की और कहा कि इन्होंने ही कथित तौर पर एसओसी डिजाइन और अन्य गोपनीय जानकारी समेत हजारों फाइलें रिवोस को दीं।

hacker hand stealing data from laptop top down
मुकदमा में स्टार्टअप कंपनी रिवोस को "एक सिक्रेट स्टार्टअप" के रूप में वर्णित किया गया हैPhoto by Towfiqu barbhuiya / Unsplash

मुकदमे में दी गई जानकारी के अनुसार टेक्सास स्थित कैथामाना ने एप्पल के लिए वरिष्ठ इंजीनियरिंग प्रबंधक के रूप में लगभग आठ वर्षों तक काम किया था। उसने 16 अगस्त 2021 के दिन टेक्सास में एप्पल कंपनी को छोड़ दिया था। कैथामाना वर्तमान में रिवोस में सीपीयू इंप्लीमेंटेशन लीड के रूप में काम कर रहा है। एप्पल ने अदालत में बताया कि कैथमाना ने एक इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी एग्रीमेंट यानी(आईपीए) पर हस्ताक्षर किए थे। इस एग्रीमेंट के तहत वह कंपनी की महत्वपूर्ण जानकारी किसी के साथ भी शेयर करने के लिए प्रतिबंधित था।

मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि अगस्त 2021 में जाने से पहले कैथामाना ने 'APPLE_WORK_DOCS' नाम से एक बाहरी USB ड्राइव पर स्प्रेडशीट, प्रस्तुतीकरण और टेक्स्ट फाइलों की एक सीरीज की कॉपी बनाई। इसी तरह कैलिफोर्निया के सैन जोस के निवासी वेन ने 6 अगस्त 2021 तक एप्पल द्वारा नियोजित सीपीयू डिजाइन इंजीनियर और कैलिफोर्निया के क्यूपर्टिनो में एप्पल की फैसि​लिटीज में काम किया था। वह अब वर्तमान में तकनीकी स्टाफ के प्रधान सदस्य के रूप में विशेष रूप से हार्डवेयर इंजीनियरिंग के तौर पर रिवोस में कार्यरत है।

मुकदमा में स्टार्टअप कंपनी रिवोस को 'एक सिक्रेट स्टार्टअप' के रूप में वर्णित किया गया है जिसकी मई 2021 में स्थापना की गई थी और यह सार्वजनिक तौर पर काफी हद तक बची हुई है। एप्पल का कहना है कि रिवोस ने 40 से अधिक इंजीनियरों को काम पर रखा है, जिनमें से कई एप्पल के सिस्टम-ऑन-ए-चिप(SoC) डिजाइन से परिचित थे। एप्पल ने कंपनी पर यह भी आरोप लगाया है कि इस स्टार्टअप ने कर्मचारियों को कंपनी में रखने से पहले काम से संबंधित दस्तावेजों की कॉपी बनाने के लिए प्रोत्साहित किया था।

एप्पल ने कहा कि उसने अपने एसओसी डिजाइनों पर अरबों डॉलर और एक दशक से अधिक समय तक शोध पर खर्च किया है। इसी के चलते व्यक्तिगत और मोबाइल कंप्यूटिंग दुनिया में क्रांतिकारी बदलाव किया है। यह देखते हुए कि इसके रहस्यों का उपयोग प्रतिस्पर्धी SoCs के विकास में काफी तेजी लाने के लिए किया जा सकता है Apple ने रिवोस को अपने ट्रेड सिक्रेट्स का उपयोग करने से रोकने और अपने पूर्व कर्मचारियों से कंपनी से जुड़ी संपत्ति वापस करने के लिए अदालत से मांग की है।