पेंच: सत्ता में भागीदारी पर अफगान सरकार ने तालिबान के सामने रखा प्रस्ताव

अशरफ गनी सरकार ने अपने नए शांति प्रस्‍ताव में तालिबान से कहा है कि उसे सत्‍ता में भागीदारी तब दी जाएगी जब वह देश के शहरों पर हमले करना बंद कर देगा।

पेंच: सत्ता में भागीदारी पर अफगान सरकार ने तालिबान के सामने रखा प्रस्ताव

अफगानिस्तान में विदेशी सैनिकों की वापसी के बाद से तालिबान तेजी से पैर पसारता जा रहा है। उसने देश के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया है। तालिबान और अफगान सरकार के बीच जारी इस जंग को खत्म करने के लिए कतर में बातचीत चल रही है। बैठक में अफगान सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले वार्ताकारों ने तालिबान के सामने एक ऑफर रखा है जिसके तहत सत्ता के बंटवारे पर समझौता करने की बात कही गई है। इसके साथ ही अशरफ गनी सरकार ने अपने नए शांति प्रस्‍ताव में तालिबान से कहा है कि उसे सत्‍ता में भागीदारी तब दी जाएगी जब वह देश के शहरों पर हमले करना बंद कर देगा।

अफगानिस्तान सरकार ने 10 अगस्त को देश में उपजे हालात पर चर्चा के लिए सभी प्रमुख नेताओं के साथ बैठक की थी।

इस बीच अफगानिस्तान में तालिबान की बढ़ती हिंसा से पैदा हुए हालात को देखते हुए काबुल स्थित भारतीय दूतावास ने सुरक्षा सलाह जारी की है। दूतावास ने भारतीय नागरिकों को तुरंत अफगानिस्तान छोड़ने की सलाह दी है। भारतीय नागरिकों से कहा गया है कि वे भारत लौटने के लिए तत्काल यात्रा की व्यवस्था करें। अफगानिस्तान में मौजूद भारतीय कंपनियों को भी भारतीय कर्मचारियों को तुरंत स्वदेश भेजने की सलाह दी गई है।

अभी हाल ही में 8 अगस्त को भारत की तरफ से अफगानिस्तान के गोर प्रांत में सोशल डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के तहत महिलाओं के लिए विशेष सत्र आयोजित किया गया था। 

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, ‘हम स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं, हम वहां के बिगड़ते हालात को लेकर चिंता में हैं। इस हफ्ते के शुरू में काबुल में हमारे दूतावास ने भारतीय नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की थी। जिसमें उन्हें कमर्शियल उड़ानों के जरिए भारत आने की सलाह दी गई।’