ये भाई-बहन अमेरिका छोड़ भारत में क्यों लाना चाहते हैं अपना खिलौना कारोबार?

अवनि और विरल मोदी का लक्ष्य है कि उनकी कंपनी अब मेड इन इंडिया टैग के साथ मार्केट में कदम रखे। वह दुनिया के दर्जनों देशों में मौजूद हिंदू ग्राहकों को आनलाइन बेचते हैं। भाई बहन की कंपनी का नाम मोदी टॉयज है।

ये भाई-बहन अमेरिका छोड़ भारत में क्यों लाना चाहते हैं अपना खिलौना कारोबार?

अमेरिका के राज्य न्यू जर्सी में रहने वाले भाई-बहन अपने बिजनेस को भारत ले जाने की तैयारी कर रहे हैं। अवनि और विरल मोदी का न्यू जर्सी में आलीशान खिलौनों का बिजनेस है। दुनिया के दर्जनों देशों में इनका कारोबार फैला हुआ है। साल 2018 में जब इन्होंने अपना पहला स्टॉक तैयार किया था उस वक्त उनके खिलौने को इतना पंसद किया गया कि वह स्टॉक मात्र दो हफ्ते में बिक गया।

क्या है भाई बहन का प्लान : अवनि और विरल मोदी का लक्ष्य है कि उनकी कंपनी अब मेड इन इंडिया टैग के साथ मार्केट में कदम रखे। भारतीय न्यूज चैनल को उन्होंने बताया कि भारत उनके लिए सबसे बड़ा बाजार है और यहां उनका लक्ष्य अपनी निर्माण यूनिट को तैयार करना है ताकि वह भारतीय बाजार में अपने खिलौनों के लिए जगह बना सकें। अ​वनि और विरल बचपन में भारत से न्यू जर्सी अपने माता पिता के साथ आए थे। भारत आने की एक वजह यह भी दोनों ने बताई है कि महामारी के कारण चीन से रॉ मे​टेरियल अमेरिका पहुंचने में काफी परेशानी हुई थी, जिससे उन्हें रॉ मेटेरियल की कमी का सामना करना पड़ा था।

अवनि और विरल मोदी ने हमेशा हर नई चीज की शुरुआत भगवान श्रीगणेश की पूजा के साथ की है। उन्होंने अपना पहला खिलौना भी श्रीगणेश के रूप का तैयार किया था। उनका यह खिलौना मात्र दो सप्ताह में बिक गया था। धीरे-धीरे उन्होंने अन्य हिंदू देवताओं से मिलते-जुलते मंत्र-गायन वाले आलीशान खिलौने बनाने शुरू किए जिन्हें वह दुनिया के दर्जनों देशों में मौजूद हिंदू ग्राहकों को आनलाइन बेचते हैं। भाई बहन की कंपनी का नाम मोदी टॉयज है।