अपनों ने कहा, अमेरिका से भारत को कम वैक्सीन मिली, और कुछ करना होगा

कृष्णमूर्ति ने राष्ट्रपति बाइडेन और कांग्रेस में अपने सहयोगियों से कहा कि जब तक किसी भी देश में इसका प्रकोप जारी रहता है, तब तक पूरी दुनिया कोरोना के नए वैरिएंट के खतरे का सामना करती रहेगी।

अपनों ने कहा, अमेरिका से भारत को 
कम वैक्सीन मिली, और कुछ करना होगा

अमेरिकी संसद के सदस्य राजा कृष्णमूर्ति ने अफसोस जताया है कि संयुक्त राज्य अमेरिका ने भारत को कोविड वैक्सीन के केवल 7.5 मिलियन (75 लाख) डोज दिए हैं। उन्होंने बाइडेन प्रशासन से आग्रह किया है कि वैश्विक वैक्सीन सहायता कार्यक्रम के तहत भारत को और वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए।

कृष्णमूर्ति ने एक बयान में कहा, “मैं एक बार फिर राष्ट्रपति बाइडेन और कांग्रेस में अपने सहयोगियों से आग्रह कर रहा हूं कि वे एक साथ आएं और इस महामारी को समाप्त करने के लिए NOVID अधिनियम को पारित करें।

विशेष बात यह है कि इस मांग के लिए कृष्णमूर्ति को अमेरिकी संसद के 116 सदस्यों का समर्थन मिला। इन सभी सदस्यों ने संयुक्त राज्य अमेरिका के वैश्विक वैक्सीन सहायता कार्यक्रमों को भारत और अन्य देशों में विस्तारित करने पर सहमति जताई।  कृष्णमूर्ति का यह बयान उस दिन आया, जब व्हाइट हाउस ने भारत के साथ मिलकर महामारी के खिलाफ लड़ाई में सहायता देने का ऐलान किया। इसमें भारत को वैक्सीन देना भी शामिल है।