बड़ी जीत: एडिसन के मेयर ने जुलाई को 'हिंदू उत्पीड़न जागरुकता माह' किया घोषित

मेयर ने कहा कि हिंदू धर्म विविध संस्कृतियों से भरा हुआ है और दुनियाभर में शांति का प्रतीक बन रहा है। हालांकि अब भी इसके प्रति कुछ लोगों के अंदर घृणा बनी हुई है।

बड़ी जीत: एडिसन के मेयर ने जुलाई को 'हिंदू उत्पीड़न जागरुकता माह' किया घोषित
Photo by Jenish Patel / Unsplash

अमेरिका में हिंदू समुदाय के लिए शुभ समाचार। एडिसन टाउनशिप (न्यू जर्सी) के मेयर थॉमस लैंके ने जुलाई को 'हिंदू उत्पीड़न जागरुकता माह' के रूप में मान्यता दे दी है। इस फैसले से उन लोगों का हौसला बढ़ेगा जो पूरे अमेरिका के विश्वविद्यालयों और कॉलेज परिसरों को 'हिंदूफोबिया' के खतरे के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इससे पहले अप्रैल 2021 में रटगर्स यूनिवर्सिटी स्टूडेंट असेंबली (RUSA) ने इतिहास में पहली बार हिंदूफोबिया की विद्वतापूर्ण परिभाषा को अपनाने का प्रस्ताव पारित किया था। दरअसल हिंदूफोबिया हिंदू धर्म को लेकर बनाई गई गलत धारणा है।

एडिसन मेयर थॉमस लैंके ने इस फैसले का ऐलान करते हुए कहा, "हिंदू धर्म दुनिया के प्रमुख धर्मों में से एक है, जिसको विश्व के 100 करोड़ से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। पुराने समय से लेकर अब तक दक्षिण एशिया समेत तमाम जगहों पर हिंदुओ को धार्मिक मान्यताओं के कारण उत्पीड़न और भेदभाव का सामना करना पड़ा है। यहां तक कि हमारे अपने राज्य न्यू जर्सी में 1980 के दशक में हिंदू भारतीय प्रवासियों पर हमले हुए थे। इन हमलों को डॉटबस्टर्स ने अंजाम दिया था।”