पाकिस्तान में रेप पीड़ित महिला को नहीं मिला न्याय, पीएम मोदी से मांगी मदद

साल 2015 में मारिया जघन्य अपराध में शामिल लोगों के लिए सजा की मांग करने के लिए अधिकारियों से अपील कर रही है। मारिया ने हारून राशिद, ममून राशिद, जमील शफी, वकास अशरफ, सनम हारून और तीन अन्य पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

पाकिस्तान में रेप पीड़ित महिला को नहीं मिला न्याय, पीएम मोदी से मांगी मदद

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (POK) की एक सामूहिक बलात्कार पीड़िता ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद की अपील की है। गैंगरेप पीड़िता मारिया ताहिर ने पीएम मोदी से अपने और अपने बच्चों के लिए आश्रय और सुरक्षा की मांग करते हुए भावनात्मक अपील की।

वायरल वीडिया में मारिया ने कहा कि मैं पिछले सात वर्षों से न्याय के लिए लड़ रही एक सामूहिक बलात्कार पीड़िता हूं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

एक वीडियो संदेश में पीड़िता ने कहा कि पाकिस्तान की अदालतें, पुलिस और सरकार पिछले सात वर्षों में उसे न्याय सुनिश्चित करने में विफल रही है। मारिया ने पीएम मोदी से उसे भारत आने की गुजारिश करते हुए आगे दावा किया कि पाकिस्तान के एक नेता चौधरी तारिक फारूक और पाकिस्तान की पुलिस उन्हें और उनके बच्चों को मार सकते हैं।

वायरल वीडिया में मारिया ने कहा कि मैं पिछले सात वर्षों से न्याय के लिए लड़ रही एक सामूहिक बलात्कार पीड़िता हूं। POK की पुलिस, सरकारें और न्यायपालिका मुझे न्याय दिलाने में विफल रही हैं। इस वीडियो के माध्यम से मैं भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील कर रही हूं कि हमें भारत आने की अनुमति दें। मेरे बच्चों को जान से मारने की धमकी दी जा रही है। स्थानीय पुलिस और एक वरिष्ठ राजनेता चौधरी तारिक फारूक कभी भी मुझे और मेरे बच्चों को मार डालेंगे। हम पीएम मोदी से आश्रय और सुरक्षा प्रदान करने का अनुरोध करते हैं।

जानकारी मिली है कि साल 2015 से मारिया जघन्य अपराध में शामिल लोगों के लिए सजा की मांग करने के लिए अधिकारियों से अपील कर रही है। मारिया ने हारून राशिद, ममून राशिद, जमील शफी, वकास अशरफ, सनम हारून और तीन अन्य पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

मारिया ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुख्य न्यायाधीश सहित अधिकारियों को कई पत्र लिखे लेकिन उन्हें निराशा हुई कि उन्हें अपमानजनक प्रतिक्रिया मिली कि वह एक विवाहित महिला हैं। ज्ञात हो कि केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने हाल ही में कहा था कि पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू और कश्मीर (POK) को पुनः प्राप्त करना सरकार के एजेंडे में है।