कनाडा में भारतीयों का प्रवास बनेगा सरल, उच्चायोग का नया पोर्टल शुरू

उच्चायोग की वेबसाइट पर आपको 'इंडियन रजिस्ट्रेशन' का सेगमेंट नजर आएगा। यहां दो तरह के विकल्प दिए गए हैं, सिटिजन और स्टूडेंट। पोर्टल पर आप दोनों में से किसी एक विकल्प को चुन सकते हैं। इसका चुनाव करना इसलिए जरूरी है कि ताकि किसी भी परिस्थिति में आप तक समय पर मदद पहुंच सके।

कनाडा में भारतीयों का प्रवास बनेगा सरल, उच्चायोग का नया पोर्टल शुरू
कनाडा में एक कार्यक्रम के दौरान अजय बिसारिया ने भारतीयों के लिए पोर्टल लॉन्च किया

अभी कुछ दिन बीते हैं जब भारतीय छात्र कार्तिक वासुदेव की कनाडा में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसकी हत्या के बाद से कनाडा में रह रहे छात्रों के परिजन चिंतित हैं। यह चिंता स्वाभाविक भी है। लेकिन विदेश जाते वक्त जरूरी नहीं कि आप नकारात्मक बातों को जहन में पालें, हालांकि सतर्क रहना और अपने अधिकारों के प्रति जागरूक रहना भी जरूरी है। आपको उन देशों में मौजूद भारतीय मिशनों द्वारा दी जा रही सेवाओं व सुविधाओं की जानकारी  होनी चाहिए। आपके प्रवास को सरल और सहज बनाने की दिशा में भारतीय मिशन लगातार काम कर रहा है, इसी क्रम में कनाडा में भारतीय उच्चायोग ने एक नए पोर्टल की शुरुआत की है।

कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया ने रविवार को आजादी के अमृत महोत्सव से जुड़े एक कार्यक्रम के दौरान इस पोर्टल को लॉन्च किया। उन्होंने इसकी जरूरत पर जोर देते हुए कहा, 'समुदाय की बेहतर सेवा की जा सके, इसलिए प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर रहे हैं।' इस पोर्टल को भारतीय उच्चायोग की वेबसाइट से जोड़ा गया है। यहां भारतीय नागरिक या स्टूडेंट्स रजिस्ट्रेशन करा पाएंगे ताकि वे उनके लिए मौजूद सुविधाओं का लाभ पा सकें।

उच्चायोग की वेबसाइट पर आपको 'इंडियन रजिस्ट्रेशन' का सेगमेंट नजर आएगा। यहां दो तरह के विकल्प दिए गए हैं, सिटिजन और स्टूडेंट। अगर आप केवल नागरिक के तौर पर रजिस्ट्रेशन कराते हैं तो आपको अपना नाम, मोबाइल नंबर, भारत और कनाडा के पता के अलावा अपने पेशे का कॉलम भरना होगा।

वहीं, अगर एक स्टूडेंट के तौर पर रजिस्ट्रेशन करा रहे हैं तो अपने शैक्षणिक संस्थान, पाठ्यक्रम का नाम, पाठ्यक्रम की अवधि की जानकारी भी देनी होगी। कनाडा में भारत के तीन मिशन सक्रिय हैं, ओटावा में भारतीय उच्चायोग, वेंकूवर और टोरंटो में महावाणिज्य दूतावास। आप रजिस्ट्रेशन के वक्त इस बात का जरूर ख्याल रखें कि आपके आवास से इनमें से कौन सबसे नजदीक है। इसका चुनाव करना इसलिए जरूरी है कि ताकि किसी भी परिस्थिति में आप तक समय पर मदद पहुंच सके।

महावाणिज्य दूत अपूर्वा श्रीवास्तव ने भारतीय स्टूडेंट्स से की मुलाकात

उधर, नए अकादमिक सत्र की शुरुआत के बाद भारतीय स्टूडेंट्स का कनाडा आना शुरू हो गया है। ऐसे ही कुछ स्टूडेंट्स लॉरेटियन यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने कनाडा आए हैं। इन स्टूडेंट्स को भारत की तरफ से मिलने वाली मदद यानी कॉन्स्युलेट स्तर की मदद की जानकारी देने के लिए महावाणिज्य दूत अपूर्वा श्रीवास्तव को न्योता दिया गया था। अपूर्वा ने बच्चों को विस्तार से बताया कि कैसे वे जरूरत पड़ने पर वाणिज्य दूतावास से संपर्क कर सकते हैं और उनके लिए किस तरह की सहायता उपलब्ध रहेगी।