1000 पीस एंबेसडर तैयार करेगा विश्व भारती फाउंडेशन, अमेरिका में आयोजित कार्यक्रम में की घोषणा

कार्यक्रम में आचार्य डॉ.लोकेश ने कहा कि विश्व में हिंसा की रोकथाम के लिए स्कूली पाठ्यक्रम में शांति शिक्षा को जोड़ा जाना चाहिए। वहीं श्री श्री रविशंकर ने कहा कि भारत का पहला विश्व शांति केंद्र दुनिया में शांति की स्थापना हेतु योगदान करेगा।

1000 पीस एंबेसडर तैयार करेगा विश्व भारती फाउंडेशन, अमेरिका में आयोजित कार्यक्रम में की घोषणा

भारतीय सांस्कृतिक और नैतिक मूल्यों की सदियों पुरानी परंपरा के जरिए दुनिया में चल रहे संघर्षों को हल करने के उद्देश्य से अमेरिका के लॉए एंजिल्स में नई दिल्ली के अहिंसा विश्व भारती फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक वैश्विक शांति वार्ता सम्मेलन में 1000 पीस एंबेसडर तैयार करने की घोषणा की गई।

कार्यक्रम में आचार्य डॉ.लोकेश ने कहा कि विश्व में हिंसा की रोकथाम के लिए स्कूली पाठ्यक्रम में शांति शिक्षा को जोड़ा जाना चाहिए। 

कार्यक्रम में मौजूद रहे श्री श्री रविशंकर, जैन आचार्य डॉ लोकेश, बॉलीवुड अभिनेता विवेक ओबोरॉय, भारतीय न्यूज चैनल इंडिया टीवी के चेयरमेन रजत शर्मा सहित वैश्विक हस्तियों ने समारोह को संबोधित किया। कार्यक्रम में आचार्य डॉ.लोकेश ने कहा कि विश्व में हिंसा की रोकथाम के लिए स्कूली पाठ्यक्रम में शांति शिक्षा को जोड़ा जाना चाहिए। वहीं श्री श्री रविशंकर ने कहा कि भारत का पहला विश्व शांति केंद्र दुनिया में शांति की स्थापना हेतु योगदान करेगा।

यूक्रेन व रूस के बीच चल रहे भीषण युद्ध और अमेरिका में गन वायलेन्स को देखते हुए फेडरेशन ऑफ जैन असोशिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका और जैन सेंटर ऑफ सौदर्न कलिफोर्निया द्वारा किए गए इस आयोजन में अमेरिका के मेयर व कांग्रेस मेन एरिक गारकेट्टी ने मुख्य रूप से शिरकत की। कार्यक्रम में संवाद का संचालन विवेक ओबोरॉय ने किया।

कार्यक्रम में विवेक ओबेरॉय ने संचालन करते हुए कहा कि अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा पहला विश्व शांति केंद्र दिल्ली में स्थापित हो रहा है। 

आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने कहा कि यदि प्रत्येक व्यक्ति शांति के लिए खड़े होने का इरादा रखता है और अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देता है तो हम विश्व शांति को एक वास्तविकता में बदल सकते हैं। उन्होने कहा कि व्यक्तिगत शांति के बिना वैश्विक शांति संभव नहीं है। उन्होने कहा कि अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा विश्व शांति केंद्र स्थापित हो रहा है जो विश्व शांति के लिए समर्पित होगा जो समय-समय पर दुनिया का मार्गदर्शन भी करेगा।

वहीं आचार्य डॉ.लोकेश ने अमेरिका में बढ़ती गन हिंसा की घटनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि हिंसा और आतंक को जड़ से खत्म करने के लिए स्कूली पाठ्यक्रम में शांति शिक्षा को शामिल करना अति आवश्यक है। उन्होने कहा कि युद्ध, हिंसा और आतंक किसी समस्या का समाधान नहीं है, हिंसा प्रतिहिंसा को जन्म देती है। संवाद के द्वारा यूक्रेन व रूस के विवाद को भी सुलझाया जा सकता है ऐसे संघर्षों को मिटाने के लिए विश्व शांति केंद्र 1000 पीस एंबेसडर तैयार करेगा।

कार्यक्रम में विवेक ओबेरॉय ने संचालन करते हुए कहा कि अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा पहला विश्व शांति केंद्र दिल्ली में स्थापित हो रहा है। यह केंद्र अहिंसा के प्रशिक्षण एवं अनुसंधान पर कार्य करते हुए विश्व में शांति की स्थापना के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इस अवसर पर जैन सेंटर ऑफ सौदर्न कलिफोर्निया के अध्यक्ष योगेश शाह, फेडरेशन ऑफ जैन असोशिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका के पूर्व अध्यक्ष महेश वडेर, डॉ.नितिन शाह ने विश्व शांति संवाद कार्यक्रम में हिस्सा लिया।