'फुट' के बाद अब 'जयपुर हैंड', छात्रों ने किया कमाल, विकलांगों को मिलेगा लाभ

इलेक्ट्रॉनिक और मकैनिकल मसलों पर काम करते हुए छात्रों ने पिल्टओवर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए कम लागत का एक प्रोस्थेटिक हाथ तैयार कर दिया। चीन के ऐसे हाथ की कीमत 1 लाख रुपये है तो जयपुर के इस हाथा की कीमत मात्र 15 हजार रुपये।

'फुट' के बाद अब 'जयपुर हैंड', छात्रों ने किया कमाल, विकलांगों को मिलेगा लाभ

शारीरिक रूप से अक्षम लोगों को उनके पैरों पर खड़े होने में मदद करने के लिए पूरी दुनिया में सराहे जाने वाले भारत के 'जयपुर फुट' के बाद अब 'पिंक सिटी' के एक निजी विश्वविद्यालय के छात्रों के एक स्टार्टअप ने एक प्रोस्थेटिक हाथ तैयार किया है। करीब दो साल पहले शुरू किए गए इस स्टार्टअप की कीमत अब करोड़ों रुपयों में हो गई है।

एक निजी विश्वविद्यालय के छात्रों के एक स्टार्टअप ने एक प्रोस्थेटिक हाथ तैयार किया है। 

मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर के प्रो-प्रेसिडेंट प्रोफेसर एनएन शर्मा के अनुसार प्रोस्थेटिक हाथ का कंसेप्ट तैयार करने की कहानी बहुत रोचक है। दो साल पहले भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति के अधिकारी यूनिवर्सिटी आए थे। उन्होंने पूछा था कि क्या हम प्रोस्थेटिक हाथ बना सकते हैं और हमने इस पर काम शुरू किया।