अमेरिका में भारतीय डॉक्टरों की सबसे बड़ी संस्था ने संगठन में किया यह बदलाव

एएपीआई की वर्तमान अध्यक्ष डॉ. अनुपमा गोटीमुकुला और एएपीआई के मुख्य चुनाव अधिकारी और पूर्व अध्यक्ष डॉ. सजनी शाह ने संयुक्त रूप से बताया कि नए नेतृत्व के लिए सफलतापूर्वक चुनाव आयोजित किए गए।

अमेरिका में भारतीय डॉक्टरों की सबसे बड़ी संस्था ने संगठन में किया यह बदलाव
डॉ रवि कोल्ली AAPI के नए अध्यक्ष चुने गए। 

अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ऑफ इंडियन ओरिजिन (APPI) ने साल 2022-2023 के लिए संगठन में बदलाव की घोषणा की है। सैन एंटोनियो, टेक्सास में जून के सम्मेलन के दौरान चुने गए लोगों को संगठन की कमान सौंप दी जाएगी। बता दें कि अमेरिका में बड़ी संख्या में भारतीय मूल के डॉक्टर काम कर रहे हैं। एएपीआई के मुताबिक अमेरिका में भारतीय मूल के चिकित्सक देश में हर 7 मरीजों में से 1 की सेवा करते हैं। एएपीआई भारतीय मूल के डॉक्टरों के बीच सबसे बड़ा संगठन माना जाता है।

डॉ. अंजना सम्मादार। 

संगठन की वर्तमान अध्यक्ष डॉ. अनुपमा गोटीमुकुला और एएपीआई के मुख्य चुनाव अधिकारी और पूर्व अध्यक्ष डॉ. सजनी शाह ने संयुक्त रूप से बताया कि नए नेतृत्व के लिए सफलतापूर्वक चुनाव आयोजित किए गए। इस प्रक्रिया में भाग लेने के लिए डॉ. सीमा अरोड़ा, डॉ. शरद लखनपाल, डॉ. सुनीता कनुमुरी, डॉ. अरुण प्रमाणिक, डॉ. अशोक जैन और सभी सदस्यों को धन्यवाद दिया।

उन्होंने बताया कि डॉ. सतीश कथुला को एएपीआई का उपाध्यक्ष, डॉ. मेहरबाला मेदवरम को सचिव और डॉ. सुमुल रावल को कोषाध्यक्ष के रूप में चुना गया है। डॉ. कविता गुप्ता, डॉ. सुनील काजा, और डॉ. मालती मेहता तीन साल के कार्यकाल के लिए ट्रस्टी चुने गए हैं। डॉ. वी रंगा ट्रस्टी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में काम करेंगे। डॉ. पूजा किंखबवाला एएपीआई यंग फिजिशियन सेक्शन (वाईपीएस) की अध्यक्ष चुनी गईं हैं। डॉ. अम्मू सुशीला एएपीआई-मेडिकल स्टूडेंट/रेजिडेंट्स एंड फेलो सेक्शन (एमएसआरएफ) की नई अध्यक्ष होंगी।

डॉ. रवि कोल्ली सैन एंटोनियो, टेक्सास में 40 वें सालाना सम्मेलन के दौरान एएपीआई के नए अध्यक्ष के रूप में कार्यभार ग्रहण करेंगे। डॉ. रवि कोली ने कहा कि मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि मुझे समर्पित, मेहनती अधिकारियों और कार्यकारी समिति के सदस्यों की एक शानदार टीम के साथ चार दशक पुराने मजबूत संगठन का नेतृत्व करने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर एएपीआई को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे।

संस्था की तरफ से बताया गया है कि डॉ. कोल्ली को इस साल चुनाव नहीं लड़ना पड़ा, क्योंकि वह पिछले एक साल से संगठन के अध्यक्ष के रूप में काम कर रहे हैं। डॉ. अंजना सम्मादार वर्तमान में एएपीआई की उपाध्यक्ष के रूप में सेवा कर रही हैं। उन्हें भी चुनावों का सामना नहीं करना पड़ा, क्योंकि उपाध्यक्ष आने वाले वर्ष के लिए अपने आप अध्यक्ष बन जाता हैं। एएपीआई की स्थापना 1982 में हुई थी। यह संस्था अमेरिका में 100,000 से अधिक चिकित्सकों के समूह का प्रतिनिधित्व करता है। डॉ गोटीमुकुला ने कहा कि मैं आशा करती हूं कि डॉ. रवि कोल्ली के नेतृत्व में नई टीम नेक मिशन को जारी रखेगी और एएपीआई को और अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचाने के हमारे प्रयासों को मजबूत करेगी।