आज से 100 साल पहले जर्मनी गए थे टैगोर, फिर खास अदा से याद किया गया यह दौरा

बर्लिन में स्थित भारतीय दूतावास ने इस कार्यक्रम में सहयोग दिया और इस मौके को यादगार बनाने की कोशिश की। टैगोर को दुनियाभर में जाना जाता है।

आज से 100 साल पहले जर्मनी गए थे टैगोर, फिर खास अदा से याद किया गया यह दौरा
जर्मनी में मनाया गया टैगोर के 100 साल। स्रोत: Twitter

फ्रैंकफर्ट स्थित एक इंडो-जर्मन सोसाइटी Deutsch-Indische Gesellschaft Darmstadt ने नोबेल पुरस्कार विजेता रबींद्रनाथ टैगोर की जर्मनी यात्रा के 100 साल पूरे होने पर इसी महीने संगीत और नृत्य प्रदर्शन की एक सीरीज की मेजबानी की। इसमें इंडो-जर्मन कलाकारों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। इस सीरीज का निर्देशन और संचालन नंदिता चंदा ने किया था।

टैगोर के 100 वर्ष के उपलक्ष्य में नृत्य की प्रस्तुति देते कलाकर (स्रोत: इंडिया इन जर्मनी ट्विटर)

यह इंडो-जर्मन सोसाइटी भारत और जर्मनी के बीच सांस्कृतिक, पारंपरिक, धार्मिक, आर्थिक और राजनीतिक संबंधों को बनाए रखने पर केंद्रित है। इसके अलावा सोसाइटी जर्मनी में भारतीय मूल के लोगों के सह-अस्तित्व को बढ़ावा देती है। कार्यक्रम में रबींद्र बाबू की उन कविताओं को भी फोकस किया गया था, जो उन्होंने जर्मनी प्रवास के दौरान लिखी थीं। इसके अलावा टैगोर के कार्यों पर आधारित अद्वितीय नृत्यकला भी इस कार्यक्रम में आकर्षण का केंद्र रही।