वैश्विक नवाचार सूचकांक में भारत को मिली बढ़त, 81 से 46वें स्थान पर पहुंचा

जीआईआई दुनिया के 131 देशों और अर्थव्यवस्थाओं के नवाचार प्रदर्शन पर विस्तार से प्रकाश डालता है। इस सूचकांक के 80 पैमाने हैं जो राजनीतिक पर्यावरण, शिक्षा, आधारभूत संरचना और व्यापार संस्कृति के साथ देश की नवाचार प्रवीणता का पता लगाते हैं।

वैश्विक नवाचार सूचकांक में भारत को मिली बढ़त, 81 से 46वें स्थान पर पहुंचा

विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (डब्ल्यूआईपीओ) द्वारा जारी की गई वैश्विक नवाचार सूचकांक (Global Innovation Index) 2021 की रिपोर्ट में भारत 35 स्थानों की छलांग लगाकर 46वें स्थान पर पहुंच गया है। इससे पहले 2015 की रिपोर्ट में भारत 81वें स्थान पर था।

डब्ल्यूआईपीओ की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल आई कोविड-19 महामारी के बावजूद नवाचार आगे बढ़ा। प्रौद्योगिकी, फार्मास्यूटिकल्स और बायोटेक उद्योगों ने अपने निवेश को बढ़ावा दिया और परिवहन व यात्रा जैसे कठिन क्षेत्रों के खर्च में कमी आई जिसके कारण यह मुमकिन हो पाया।

बता दें कि इस रिपोर्ट में स्विट्ज़रलैंड, स्वीडन, अमेरिका, ब्रिटेन और दक्षिण कोरिया को सबसे नवीन अर्थव्यवस्थाओं का दर्जा मिला है। चीन और फ़्रांस की रैंकिंग में भी सुधार देखा गया है। 46वें स्थान पर पहुंच जाने से भारत मध्य और दक्षिण एशिया में शीर्ष स्थान पर पहुंच गया है।