2024 तक करीब 18 लाख भारतीय छात्र शिक्षा के लिए जाएंगे विदेश: रिपोर्ट

2016 की तुलना में विदेशों में पढ़ने वाले छात्रों में 20 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है जिसका श्रेय पिछले दो दशकों में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में बढ़त को जाता है।

2024 तक करीब 18 लाख भारतीय छात्र शिक्षा के लिए जाएंगे विदेश: रिपोर्ट
Photo by javier trueba / Unsplash

कोविड महामारी की स्थिति सामान्य होने और अंतरराष्ट्रीय सीमाएं फिर से लगातार खुलने से आने वाले वर्षों में विदेशों में पढ़ाई का बढ़ना तय माना जा रहा है। पूर्वानुमान के अनुसार 1.8 मिलियन यानी 18 लाख से अधिक भारतीय छात्र 2024 तक विदेशी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को चुनने के लिए तैयार हैं। विदेशों में अध्ययन की बढ़ती मांग के साथ छात्र व्यय भी बढ़ रहा है और 2024 तक इसके 75-85 अरब डॉलर तक पहुंचने की संभावना है। यह आंकड़ा वर्ष 2019 की तुलना में दो गुना से भी ज्यादा है।

2019 में लगभग 7 लाख छात्रों ने विदेश में पढ़ने के लिए आवेदन किए थे। Photo by Eliott Reyna / Unsplash

बेंगलुरु स्थित मार्केट रिसर्च फर्म रेडसीर की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस सेक्टर को 2020-21 में कोविड के चलते अंतरराष्ट्रीय सीमाएं बंद होने से गिरावट का सामना करना पड़ा था, लेकिन अब यह गति फिर से सामान्य होने की उम्मीद है। रेडसीर के कार्य प्रबंधक अभिषेक गुप्ता अपनी शोध के आधार पर अनुमान लगाते हैं कि विदेश में पढ़ने वाले भारतीय छात्रों की कुल संख्या 2024 तक लगभग 18 लाख तक पहुंच जाएगी। इससे पहले 2019 में लगभग 7 लाख छात्रों ने विदेश में पढ़ने के लिए आवेदन किए थे।