कोरोना संकट टला, अपने स्टाफ की जेबें भरने वाली हैं भारतीय कंपनियां!

कंपनियां महामारी के आर्थिक नतीजों से उबर रही हैं और कर्मचारियों को आकर्षित करने और बनाए रखने की बढ़ती चुनौतियों का सामना कर रही हैं।

कोरोना संकट टला, अपने स्टाफ की जेबें भरने वाली हैं भारतीय कंपनियां!
Photo by Ayaneshu Bhardwaj / Unsplash

एडवाइजरी और कंसल्टेंसी फर्म विलिस टावर्स वाटसन द्वारा जारी किए गए एक बयान के मुताबिक भारतीय कंपनियां 2022 में औसतन 9.3% की वेतन वृद्धि की पेशकश करेंगी जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी होगी। यह अनुमान सितंबर के एओएन वेतन सर्वेक्षण द्वारा जारी किए गए अनुमान के समान है जिसमें भारतीय कंपनियों द्वारा 9.4% वेतन वृद्धि का पूर्वानुमान लगाया था।

हाल में जारी इस बयान के अनुसार विलिस टावर्स वाटसन की वेतन बजट योजना रिपोर्ट में अन्य देशों के संदर्भ में बताया गया है कि चीनी फर्मों द्वारा 6%, सिंगापुर और ऑस्ट्रेलियाई फर्मों द्वारा लगभग 3.8% और वियतनाम की फ़र्मों द्वारा  8% की वृद्धि के भुगतान का अनुमान है। यह वृद्धि के अनुमान इन देशों में एक उज्ज्वल घरेलू आर्थिक दृष्टिकोण का संकेत देते हैं। रिपोर्ट का डाटा  एशिया प्रशांत महाद्वीप की 1,405 फर्मों से एकत्रित किया गया है जिसमें भारत से 435 फर्म शामिल हैं।