भारतीय छात्रों के दो समूहों ने जीता नासा का यह विशेष रोवर चैलेंज

इस चैलेंज के तहत हाईस्कूल डिवीजन में स्टेम इंगेजमेंट अवार्ड (STEM Engagement Award) पंजाब के डीसेंट चिल्ड्रेन मॉडल प्रेसीडेंसी स्कूल के छात्रों की टीम को मिला। इसमें 58 कॉलेजों और 33 हाईस्कूलों समेत 91 टीमों ने हिस्सा लिया था।

भारतीय छात्रों के दो समूहों ने जीता नासा का यह विशेष रोवर चैलेंज

भारतीय छात्रों के दो समूहों ने नासा 2022 ह्यूमन एक्सप्लोरेशन रोवर चैलेंज जीता है। इनमें से एक समूह पंजाब और दूसरा तमिलनाडु का है। अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने बीती 29 अप्रैल को वर्चुअल माध्यम से हुए एक कार्यक्रम में इस चैलेंज के विजेताओं की घोषणा की।इसमें 58 कॉलेजों और 33 हाईस्कूलों समेत 91 टीमों ने हिस्सा लिया था।

इस चैलेंज के तहत अमेरिकी और अंतरराष्ट्रीय छात्रों को एक मानव संचालित रोवर को डिजाइन करना था, इंजीनियर करना था और हमारे सोलर सिस्टम में पाई जाने वाली पथरीली इकाइयों के सिमुलेशन कोर्स पर इसका परीक्षण करना था।

हंट्सविले के मार्शल स्पेस फ्लाइट सेंटर में इस चैलेंज की एक्टिविटी लीड ऑन्ड्रा ब्रूक्स-डेवनपोर्ट ने कहा कि इस साल छात्रों से ऐसा कोर्स डिजाइन करने के लिए कहा था जो उन चुनौतियों की तरह हो जैसे कि वह हंट्सविले में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।

इस चैलेंज के तहत हाईस्कूल डिवीजन में स्टेम इंगेजमेंट अवार्ड (STEM Engagement Award) पंजाब के डीसेंट चिल्ड्रेन मॉडल प्रेसीडेंसी स्कूल के छात्रों की टीम को मिला। वहीं, तमिलनाडु के वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (VIT) की टीम को कॉलेज/यूनिवर्सिटी प्रभाग में विजेता घोषित किया गया।