क्या अमेरिकी भारतीय छात्र तनिष्क को मिल पाएगा यह गौरवशाली पुरस्कार

पुरस्कार जीतने पर सबसे कम उम्र के भारतीय अमेरिकी बायोमेडिकल इंजीनियर, तनिष्क अब्राहम, अफगानिस्तान में बच्चों की शिक्षा के लिए योगदान करना चाहेंगे। अब्राहम ने कम उम्र में अपनी सराहनीय शैक्षिक और वैज्ञानिक उपलब्धियों के माध्यम से दुनिया भर में कई लोगों को प्रेरित किया है।

क्या अमेरिकी भारतीय छात्र तनिष्क को मिल पाएगा यह गौरवशाली पुरस्कार

मात्र 15 साल की उम्र में स्नातक करने वाले सबसे कम उम्र के बायोमेडिकल इंजीनियर और अब यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया डेविस में पीएचडी के उम्मीदवार, भारतीय मूल के अमेरिकी छात्र तनिष्क अब्राहम एक लाख अमेरिकी डॉलर के वैश्विक छात्र पुरस्कार के लिए शीर्ष 50 फाइनलिस्ट में शामिल हैं। यह अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार लंदन स्थित परोपकारी संगठन 'द वर्की फाउंडेशन' और अमेरिका स्थित चेग के परोपकारी प्रभाग 'चेग डॉट ओआरजी' द्वारा प्रायोजित है।

यह खबर सुनने के बाद सैक्रामेंटो, कैलिफोर्निया निवासी तनिष्क अब्राहम ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि सीखने और चुनौतियों पर काबू पाने के उनके प्यार ने दूसरों को भी प्रेरित किया। "मैं शीर्ष 50 फाइनलिस्टों में से एक होने पर बहुत उत्साहित और सम्मानित हूं।" विजेता का चयन वैश्विक छात्र पुरस्कार अकादमी द्वारा उनकी शैक्षणिक उपलब्धि, उनके साथियों पर प्रभाव, और वे अपने समुदाय में किस तरह से बदलाव लाते हैं, के आधार पर किया जाएगा। विजेता की घोषणा नवंबर महीने में पेरिस में एक पुरस्कार समारोह में की जाएगी।